सक्रिय कल्पना में सोच समझ विवेक बुद्धि स्वभाव मिलनसार और जागरूक ब्यक्ति अपने जीवन में ज्ञान के विकाश और ख्याति के लिए बहुत कुछ करते है

सक्रिय कल्पना का जीवन में बहुत बड़ा महत्व है

कल्पना में सोच समझ सक्रिय कल्पना का जीवन में बहुत बड़ा महत्व रखता है। 

खास करके ऐसे ब्यक्ति के लिए जो सकारात्मक होते है। 

जो ब्यक्ति कई क्षेत्र में अपने खास स्वभाव और ब्यक्तित्व के वजह से अपनी ख्याति प्राप्त किया है। 

उनका सोच, समझ, विवेक, बुद्धि, स्वभाव मिलनसार और जागरूक होते है। 

ऐसे ब्यक्ति अपने जीवन में ज्ञान के विकाश और ख्याति के लिए बहुत कुछ करते है।

 

सक्रीय कल्पना करने के लिए मन सक्रीय होकर एकाग्र भाव में रहना चाहिए

सक्रीय कल्पना करने के लिए मन को अच्छी तरह से सक्रीय होकर एकाग्र भाव में रहना चाहिए।  

मन, सोच, समझ, बुध्दी, विवेक सकारात्मक और संतुलित होना आवश्यक है। 

जिससे अपने सोच समझ के दौरान कल्पना में स्पष्ट चित्रण हो सके। 

जब कल्पना सहज होने लगता है।  तब जैसी कल्पना करते है।

मन का स्वभाव भी वैसा ही होने लगता है। 

इससे मन कल्पना के अनुसार कार्य में लग जाता है।

कार्य सटीक और जल्दी होने लगता है। 

ऐसे सक्रीय कल्पना के लिए प्रयास बारम्बार करना पड़ता है।

जब तक की मन सहज भाव में कल्पना न करे।

वैसे इस प्रयास में सबको सफलता नहीं मिलता है। 

सक्रीय कल्पना के लिए एकाग्रता का निरंतर प्रयास करने वाले को ही सक्रीय कल्पना में सफलता मिलता है।

कल्पना में सोच समझ
कल्पना में सोच समझ

Leave a Reply